इक ग़ज़ल

 अपनी सुत्रबंधन के अठारह वर्षों के सफ़र साथ पे



अंजु दास गीतांजलि

सफ़र में साथ तेरा साथी जन्मों तक निभाऊंगी ।

मैं दुल्हन तेरी बनके  साथी  तेरा घर सजाऊंगी ।

                           ❣️❣️


कभी  गुस्सा  कभी  तकरार  होगा  प्यार में लेकिन

थके।  हारे   जो आओगे  तुम्हे  सीने  लगाऊंगी।

                           ❣️❣️

तेरी होकर ही रहना चाहती हर जन्मों तक मैं भी ।

यकीं  कर  तेरे घर में रोज़ इक दीपक जलाऊंगी ।

                            ❣️❣️

सजाऊंगी  मैं   अपनी   मांग  तेरे नाम से हमदम ।

बड़े   आराम  से  बिस्तर  पे  सर  तेरा  दबाऊंगी ।

                             ❣️❣️

ख़ुदा  का  वास्ता तुमको कभी तुम छोड़ मत देना ।

तड़प  कर  जान  देदूंगी  तुम्हें   मैं  ना  भुलाऊंगी।

                              ❣️❣️

कहां  जाओगे बोलों भागकर के तुम जहां जाओ 

मेरी   आवाज़  तुमको  खींच  लेंगी जब बुलाऊंगी।

                               ❣️❣️

अंजु दास गीतांजलि पूर्णियां बिहार की क़लम से 🙏🌹🙏👈

Popular posts
सफेद दूब-
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं लखीमपुर से कवि गोविंद कुमार गुप्ता
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
मैं मजदूर हूँ
Image