मां

 


गोविन्द कुमार गुप्ता

जव जन्म लिया इस धरती पर मुख से निकला था माँ,,

9 माह था रख्खा कोख में था तब कहलाई वह माँ ।।


सब दर्द सहा सब कष्ट सहा

तब बन पाई वो माँ,

इसलिये तो धरती पर ईश्वर का रूप है देखो माँ,,।।


माँ की गोदी में प्यार मिले

लोरी के साथ दुलार मिले,

जीवन को है आधार मिले,

कितना करती है माँ,,,


जब जन्म लिया इस धरती पर

मुख से निकला था माँ,, ।।


वह राह ताकती तब तक है,

जब तक घर आ जाता ना,

जब तक वह भुंखी रहती है,

जब तक न खा लूं मैं खाना,

थोड़ी सी हिचकी आने पर पानी देती है माँ,,।


जब जन्म लिया इस धरती पर मुख से निकला था माँ,।।


धरती पर कोई ईश्वर है,

वह अंश यही है माँ,

बंश बेल को सदा बढ़ाती कहलाई है माँ,


जब जन्म लिया इस धरती पर मुख से निकला था माँ,,,।।


गोविन्द कुमार गुप्ता,

लखीमपुर खीरी उत्तर प्रदेश

Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं लखीमपुर से कवि गोविंद कुमार गुप्ता
Image
सफेद दूब-
Image
शिव स्तुति
Image