कुदरत के इशारों को

 


रश्मि मिश्रा 'रश्मि'

कभी धरती दहलती है,

    कभी आकाश रोता है

जिसे गंभीर कहते हैं

   वो सागर धैर्य खोता है

अभी भी तू नहीं समझा, इन कुदरत के इशारों को,,

तू किस गफलत में खोकर के

        चैन की नींद सोता है!!


पाप का बोझ इतना कि•••••

         हटीं नदियां किनारों से

भरोसा उठ गया अब तो

           बसंती उन बहारों से

कली के सुर्ख गालों को

   दृगों का नीर धोता है!!!


बड़ी उद्दण्ड पवनें हैं 

   जले दीपक बुझातीं हैं

कहीं चिंगारियों को ये

    धधक शोला बनातीं हैं

यही सिद्धांत है जग का

    वही पाता जो बोता है!!


 रश्मि मिश्रा 'रश्मि'

 भोपाल (मध्यप्रदेश)

Popular posts
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
हँस कर विदा मुझे करना
Image
सफेद दूब-
Image
नारी शक्ति का हुआ सम्मान....भाजपा जिला अध्यक्ष
Image