सुशील कुमार भोला 

तुम देखे हुए लगते हो 

कभी मिला करते थे हम ।।


धुआँ धुआँ सा अहसास हो 

हमारे हो कहा करते थे तुम ।।


किस लिए नज़र चुराते हो 

तुम्हारी आँखों में बसते थे हम ।।


सपनों से भी रुख़सत हो गए 

कयामत तक रहेगा साथ कहते थे तुम ।।।


🌹 सुशील कुमार भोला 

                   जम्मू

Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं यमुनानगर हरियाणा से कवियत्री सीमा कौशल
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं लखीमपुर से कवि गोविंद कुमार गुप्ता
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
पापा की यादें
Image