भगवान श्री परशुराम जयंती और अक्षय तृतीया की हार्दिक बधाई व शुभकामनाएं

 छंद - कुण्डलियाँ



डॉ. अर्चना दुबे 'रीत'

गाथा जिनकी सब सुने, ऐसा है सुरधाम ।

 बलशाली उन सा नहीं, अवतारी भगवान ।

अवतारी भगवान, किये शिवशंकर पूजा ।

वीरो में अति वीर, ब्राम्हणों में नहि दूजा ।

'रीत' कहे कर जोड़ि, शरण में झुकता माथा ।

परशुराम अवतार, विष्णु की गाओ गाथा ।।1।।


 आशा ब्राह्मण में जगा, लिए विष्णु अवतार ।

पापों से होगा रहित, अब सारा संसार ।

अब सारा संसार, रूप षष्ठी कर धारण ।

किये क्षत्रिय संहार, दुखों का किये निवारण ।

'रीत' चरण शिर नाय, भजन गाये निज भाषा ।

प्रभु का तेज प्रकाश, जगाये सबमें आशा ।।2।।


कविता


विष्णु के अवतार में 

जन्म लिये भगवान 

छठा रूप धरि परशुराम जी

जन का किये कल्याण ।


ब्राह्मण के थे कुलगुरु

जन्म अक्षय तृतीया, वैशाख

शुक्लपक्ष, तृतीया दिवस

त्रेतायुग शुरुवात ।


दानी परशुराम जी ने

कश्यप ऋषि जी को दिये धरा का दान

स्वंय तपस्वी बन गये

महेन्द्र गिरि पर किये निवास ।


शस्त्र, शास्त्र विद्या के गुरु महान

भीष्म, द्रोण को किये प्रदान

पृथ्वी पर किये इक्कीस बार

अत्याचारी क्षत्रियों का विनाश ।


धरा क्षत्रियों से रहित किये

जमदग्नि पुत्र को कोटि प्रणाम

भीषण क्रोध इनमें था व्याप्त

गणपति पर किये फरसा प्रहार ।


यह बात पुराणों में मिलता

थे सप्त चिरंजीवी नामों में

जमदग्नि - रेणुका के पुत्र हुए

बन पंचम सन्तान अवतार लिये ।


भगवान परशुराम की जो 'अर्चना' करता

धन, ज्ञान, भूमि, भक्ति मिलता

हर मुश्किल में रक्षा करते

हरिवंश पुराण में सब मिलता ।


*डॉ. अर्चना दुबे 'रीत'*✍️

  मुम्बई

Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं यमुनानगर हरियाणा से कवियत्री सीमा कौशल
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं लखीमपुर से कवि गोविंद कुमार गुप्ता
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
पापा की यादें
Image