मेरे हबीब

उदय किशोर साह

मेरे ख्यालात को रंग भर दो

मेरे सोंच को सच कर दो

मेरे सपनों की महल बन जाये

मेरे हबीब तुम जरा मुस्कुरा दो


मेरी चाहत को हवा भर दो

मेरे अरमान की गुलशन सजा दो

मेरी आरजू की सूरत संवर जाये

मेरे हबीब तुम जरा मुस्कुरा दो


मेरे प्यार की चमन खिला दो

मेरे सर की धूप को आँचल की छाँव दे दो

मेरी मूरत को तेरे दिल में जगह मिल जाये

मेरे हबीब तुम जरा मुस्कुरा दो


मेरे नाम की मांग सजा लो

मेरी दुल्हन बन मेरा घर बसा दो

मेरे ऑगन में तूँ तुलसी बन आ जाये

मेरे हबीब तुम जरा मुस्कुरा दो


मेरे नींद को बाँहों में सुला दो

अपनी जुल्फों में मुझे छुपा लो

अनजान नगर में मेरी बस्ती बस जाये

मेरे हबीब तुम जरा मुस्करा दो 


उदय किशोर साह

मो० पो० जयपुर जिला बाँका बिहार

9546115088

Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
सफेद दूब-
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
डॉ.राधा वाल्मीकि को मिले तीन साहित्यिक सम्मान
Image