मैं हूं सदाबहार

अमृता पांडे

खाद पानी की नहीं है आस

जाड़ा, गर्मी या हो चौमास

सदा हरा भरा रहता हूं

खिला खिला रहता हूं


जैसा कल था, वैसा आज

जिजीविषा है मेरा राज

जो ना चाहो मुझे गमले में सजाना

अपने घर के सुंदर आंगन में लगाना

तो मैंने कब शोक मनाया

मैंने जंगल के कोने को

अपना स्वर्ग बनाया

मैं हूं जंगल का सरताज

नहीं याचना का मोहताज

मुझ में है क्षमता अपार

क्योंकि मैं हूं एक सदाबहार। 


   अमृता पांडे

हल्द्वानी नैनीताल

Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
भैया भाभी को परिणय सूत्र बंधन दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image