कुंडलिया


महातम मिश्र 'गौतम' गोरखपुरी

आफत के तूफान ने, बहुत लगाया जोर।

हिला न पाया ध्वज धवल, सोमनाथ में शोर।

सोमनाथ में शोर, द्वारिका हरि की नगरी।

चले सुदामा दौड़, नहीं निष्कंटक डगरी।

कह गौतम कविराज, समंदर निशदिन डाफत।

होत न बाँका बाल, विष्णु शिव घर कस आफत।।

Popular posts
सफेद दूब-
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
जीवन के हर क्षेत्र में खेल महत्वपूर्णः संजय गुलाटी, भेल में अन्तर इकाई बास्केटबाल टूर्नामेंन्ट
Image
साहित्यिक परिचय : बिजेंद्र कुमार तिवारी
Image
मर्यादा पुरुषोत्तम राम  (दोहे)
Image