पर्यावरण संरक्षण

 सायली छंद



ओम प्रकाश श्रीवास्तव ओम

आज

चारों ओर

मौत मंजर छाया

व्यथित हुआ

हृदय।


क्या

मानव जीवन

इतना भयानक अंत

सह पायेगा

कभी।


विकास

चरम सीमा

स्पर्श किया मानव

विनाश मंजर 

देखो।

 

पर्यावरण

बिगाड़ा तूने

प्रकृति कोप सहन

दुष्कर हुआ

मानव।


ओम प्रकाश श्रीवास्तव ओम

कानपुर नगर

मोब 9935117487

Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं यमुनानगर हरियाणा से कवियत्री सीमा कौशल
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं लखीमपुर से कवि गोविंद कुमार गुप्ता
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
पापा की यादें
Image