कितनी नादान थी मैं, खुद को लुटाती रही

  


डॉ सुलक्षणा

वो रूठता रहा बात बात पर, मैं मनाती रही,

उसकी झूठी मोहब्बत में दिल बहलाती रही।

वो हर बार सितम करता रहा, मैं सहती रही,

देख उसके झूठे आँसू खुद को तड़पाती रही।

हर ख़्वाहिश उसकी पूरी, खुद को मारकर,

कितनी नादान थी मैं, खुद को लुटाती रही

जब भी मिलता देता वो वास्ता मोहब्बत का,

बिना सोचे उसके फरेबी बातों में आती रही।

जब दिल भर गया उसका, छोड़ चला गया,

मिन्नतें करके उसके आगे गिड़गिड़ाती रही।

"सुलक्षणा" सच में मोहब्बत अंधी होती है,

मैंने नहीं मानी तुम बार बार समझाती रही।



Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
पुराने-फटे कपड़े से डिजाइनदार पैरदान
Image
स्वयं सहायता समूह ग्राम संगठन का गठन
Image
मधुर वचन....
Image