ये लफ्ज आईने है



 श्वेता अरोड़ा

लफ्ज कहने को तो शब्द है पर हकीकत मे ये आईना है हमारे व्यक्तित्व का,

लफ्ज आईना है हमारे संस्कार का,

लफ्ज ही है जो रूबरू कराते है हमारे विचारो से,

लफ्ज आईना है हमारे विचारो का!

हमारे लफ्जो की प्रकृति को देखकर ही पता चलता है हमारे स्वभाव का,

हमारे लफ्ज ही जरिया है हमारी कटुता, मधुरता,सौम्यता, करूणा और दयावान प्रवृति से परिचय कराने का!

इसलिए कहते है कि लफ्ज कम बोलो पर तोल के बोलो!


                                                   

Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
भैया भाभी को परिणय सूत्र बंधन दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image