ये लफ्ज आईने है



 श्वेता अरोड़ा

लफ्ज कहने को तो शब्द है पर हकीकत मे ये आईना है हमारे व्यक्तित्व का,

लफ्ज आईना है हमारे संस्कार का,

लफ्ज ही है जो रूबरू कराते है हमारे विचारो से,

लफ्ज आईना है हमारे विचारो का!

हमारे लफ्जो की प्रकृति को देखकर ही पता चलता है हमारे स्वभाव का,

हमारे लफ्ज ही जरिया है हमारी कटुता, मधुरता,सौम्यता, करूणा और दयावान प्रवृति से परिचय कराने का!

इसलिए कहते है कि लफ्ज कम बोलो पर तोल के बोलो!


                                                   

Popular posts
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
अंजु दास गीतांजलि की ---5 ग़ज़लें
Image
सफेद दूब-
Image
नारी शक्ति का हुआ सम्मान....भाजपा जिला अध्यक्ष
Image