सजना

 


मधु अरोड़ा

नैनो से दिल में उतर गए सजना ,

हुए दिल के तार झंकृत ।

बज गए मधुर स्वर सजना 

क्या कहूं कैस?

गाल है शर्म से लाल।

तुम्हारी छवि देखतेही,

 झंकृत हुए दिल के तार ।

 दिखता है चारों ओर ,

 मौसम मधुर सुहाना।

  कली गुनगुना रही हैं ,

  फूल गा रही है प्यार का तराना ।

झंकृत हुए दिल के तार ,

तुम्हें देखा जबसे सजना।

 हवाएंभी छेड़ रही है,

 मदमस्त है तराना ।

 खुशबू बिखर रही हर और,

  कर रही दीवाना ।

  यू ना हमको देखो ,

  नजरों से यू न चुराओ।

  देखा तुम्हें जब से सजना,

   झंकृत हुए दिल के तार ।

   दिल हमारा बेकरार ,

   गाएं बस प्यार का तराना ।

   दिल नहीं अब बस में मेरे ,

   स्वास भी अब गीत गा रही ।

    जिधर देखूं उधर प्रियतम ,

    तेरी छवि नजर आ रही है।

     तुम्हें देखा जब से सजना

      झंकृत हुए दिल के तार।।

                      दिल की कलम से

                      

Popular posts
सफेद दूब-
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं यमुनानगर हरियाणा से कवियत्री सीमा कौशल
Image
पापा की यादें
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं लखीमपुर से कवि गोविंद कुमार गुप्ता
Image