मैं जीना चाहती हूँ


मुकेश गौतम

=======================

शहर हो या फिर गाँव हैदराबाद हो या उन्नाव।

महफ़ूज नहीं हूँ कहीं भी अब कहाँ लूं छांव।।

-------------------------------------------

किस किस दर पर जाऊँ कहाँ पर गुहार लगाऊँ।

किस पर भरोसा जताऊँ जो मैं सुरक्षित पाऊँ।।

-------------------------------------------

हर राह पर भय की छाया तो घर पर ही कैद हो जाऊँ।

बहुत संकट में हूँ आज अब यहाँ कैसें जी पाऊँ।

--------------------------------------------

क्या अपराध था मेरा जो जींदा जला दी जाऊँ। 

दुःख तो तब होता है जब न्याय भी नहीँ पाऊँ।।

-------------------------------------------

फिर क्यों यहाँ आई मैं हमेशा अबला ही कहलाऊँ।

सदा औरों के हित हीं रहूँ फिर भी सजा ही पाऊँ।।

-------------------------------------------

नई बात सिर्फ नो दिन फिर वही अंधेरा पाऊँ।

मैं बिटियाँ जीना चाहती हूँ पर कैसे जी पाऊँ।।

======================

                       रचनाकार

                    -मुकेश गौतम

                 ग्राम डपटा बूंदी(राज)

                   19:05:2021

Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
भगवान परशुराम की आरती
Image
पुराने-फटे कपड़े से डिजाइनदार पैरदान
Image