मातृ दिवस

 


ग्यारह साल बीत गए माँ, बिन तेरे.....पर एक दिन भी ऐसा नहीं बीता जिसमें तेरी यादों का गुलदस्ता न मुस्कुराया हो.....सादर प्रणाम माँ, नमन नमन नमन!


"कुंडलिया"


सूरत माँ की देखकर, दिन जाता था बीत

रात लोरियाँ श्रवण कर, मन गाता था गीत

मन गाता था गीत, प्रीति माँ के मुख आँचल

थी जो उसकी राह, उसी पर चलता हूँ चल

कह 'गौतम' कविराज, जिगर में ढेरों मूरत

भर पाती क्या प्यार, भरा जस माँ की सूरत।।


महातम मिश्र 'गौतम' गोरखपुरी

Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं लखीमपुर से कवि गोविंद कुमार गुप्ता
Image
सफेद दूब-
Image