बंद दरवाजे पर दस्तक

 

पूनम शर्मा स्नेहिल

बंद दरवाजे पर फिर आज ,

मुझे किसी ने दस्तक दी ।


रखूँ सबका मैं खयाल,

यही थी उसने आरजू की। 

बाहर घूम रहा कोरोना ,

भीतर ही तुम रहना ।


थोड़ी बंदिश को इस पल,

 पड़ेगा सब को सहना।


 बंद दरवाजा रखना तुम ,

फिर नहीं किसी से डरना ।


रखुँगा तुम सब का ख्याल ,

चाहे पड़े किसी से लड़ना ।


हांँ मैं हूंँ एक बेजान दरवाजा,

पर रखता हूंँ कई जानों का ख्याल। 


खड़ा-खड़ा मैं भी हो जाता,

हूंँ थोड़ा सा कभी-कभी बदहाल।


 नहीं है इच्छा मुझे किसी को ,

अपना दर्द अब कहने की ।


आदत हो गई है अब तो,

 मुझे यह आंँधी तूफान सहने की।


बंद दरवाजे पर फिर आज ,

मुझे किसी ने दस्तक दी।


 रखूँ सबका मैं ख्याल ,

यही थी उसने आरजू की ।


रखूंँ सबका मैं ख्याल ,

यही थी उसने आरजू की ।।


©️®️☯️

Popular posts
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं यमुनानगर हरियाणा से कवियत्री सीमा कौशल
Image
पापा की यादें
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं लखीमपुर से कवि गोविंद कुमार गुप्ता
Image
सफेद दूब-
Image