ग़ज़ल

 


डाॕ शाहिदा

हर जगह सजदा किया उसकी तलाश में,

खाक सारी छान डाला उसकी तलाश में |


तारे गिन के रात बीती,गिनती रही अधूरी,

तेज़ धूप में तपता रहा उसकी तलाश में |


नदियों की मौजो में सागर की लहरों में,

बेताब सा यूँ तैरता रहा उसकी तलाश में |


गुलशन और सहरा मे,फूलों की खुश्बू में,

हम रच गयेऔ बस गये उसकी तलाश में |


तूफाँ बनकर सरहद पर भी अकसर हम,

पर्वत से टकरा गये हैं उसकी तलाश में |


इन तपती सड़कों पर कितनी बार चले हैं,

थकीथकी नज़रें अब हैं उसकी तलाश में |




Popular posts
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
अंजु दास गीतांजलि की ---5 ग़ज़लें
Image
सफेद दूब-
Image
नारी शक्ति का हुआ सम्मान....भाजपा जिला अध्यक्ष
Image