बढ़ते कदम

नीलिमा गुप्ता 

पहला कदम रखा जब धरा पर माता पिता ने हाथों को थाम रखा था । बहुत सुकून से चलता ,खुश होता मैं नहीं गिरूंगा ।एक बार माता पिता पास ना थें , सोचा खुद ही खड़ा होता हूँ ।खड़ा हुआ हौसला बढ़ा,कदम बढ़ाया पर ये क्या ... धड़ाम से गिर गया ।माँ रसोई से दौड़ती आईं ..क्या हुआ ?

"कुछ नहीं " बोला और बैठा रहा ।माँ के जाने के बाद पुनः प्रयास किया और चार कदम के पश्चात खुद ही बैठ गया अब और नहीं चलूँगा कहीं गिर ना जाऊँ । माँ समझ गयी ,चलना चाहता है पर डरता है । हौसला दिया जो गलती पहले की अब मत करना ।मजबूत कदम से आगे बढ़ो नहीं गिरोगे ।

हिम्मत बढ़ी , कदमों की रफ्तार बढी । अनजान रास्तों को देखकर कई बार कदम ठिठके , ठोकर लगी तो माँ की सीख याद आई "गलतियाँ कम करना " । मौसम बदले , आबो-हवा बदली पर चलना जारी रहा , सीखना जारी रहा ।कभी धरा तो कभी आकाश को देखता ।"दिशाओं और दशाओं " में भटकता रहा , चलता रहा ।

आज एक पड़ाव पर पहुंच उन शीतल हवाओं को महसूस कर रहा हूँ जिसने मेरे पसीने को सुखाया । आंखे बंद कर सोचने लगा


सीखा बहुत ऐ जिंदगी, हर मोड़ ने सिखाया 

है हर हार को "जीत" में बदलना ये समझाया ।

बस यूँ ही चलते रहना....💐✍️

स्वरचित 

नीलिमा गुप्ता 

    स.अ.

प्रा.वि. खोदना खुर्द न 1

बिसरख , गौ .बु.नगर

Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं लखीमपुर से कवि गोविंद कुमार गुप्ता
Image
सफेद दूब-
Image