बढ़ते कदम

नीलिमा गुप्ता 

पहला कदम रखा जब धरा पर माता पिता ने हाथों को थाम रखा था । बहुत सुकून से चलता ,खुश होता मैं नहीं गिरूंगा ।एक बार माता पिता पास ना थें , सोचा खुद ही खड़ा होता हूँ ।खड़ा हुआ हौसला बढ़ा,कदम बढ़ाया पर ये क्या ... धड़ाम से गिर गया ।माँ रसोई से दौड़ती आईं ..क्या हुआ ?

"कुछ नहीं " बोला और बैठा रहा ।माँ के जाने के बाद पुनः प्रयास किया और चार कदम के पश्चात खुद ही बैठ गया अब और नहीं चलूँगा कहीं गिर ना जाऊँ । माँ समझ गयी ,चलना चाहता है पर डरता है । हौसला दिया जो गलती पहले की अब मत करना ।मजबूत कदम से आगे बढ़ो नहीं गिरोगे ।

हिम्मत बढ़ी , कदमों की रफ्तार बढी । अनजान रास्तों को देखकर कई बार कदम ठिठके , ठोकर लगी तो माँ की सीख याद आई "गलतियाँ कम करना " । मौसम बदले , आबो-हवा बदली पर चलना जारी रहा , सीखना जारी रहा ।कभी धरा तो कभी आकाश को देखता ।"दिशाओं और दशाओं " में भटकता रहा , चलता रहा ।

आज एक पड़ाव पर पहुंच उन शीतल हवाओं को महसूस कर रहा हूँ जिसने मेरे पसीने को सुखाया । आंखे बंद कर सोचने लगा


सीखा बहुत ऐ जिंदगी, हर मोड़ ने सिखाया 

है हर हार को "जीत" में बदलना ये समझाया ।

बस यूँ ही चलते रहना....💐✍️

स्वरचित 

नीलिमा गुप्ता 

    स.अ.

प्रा.वि. खोदना खुर्द न 1

बिसरख , गौ .बु.नगर

Popular posts
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
अंजु दास गीतांजलि की ---5 ग़ज़लें
Image
सफेद दूब-
Image
नारी शक्ति का हुआ सम्मान....भाजपा जिला अध्यक्ष
Image