एक गजल का प्रयास


तूफां के इक झोकें ने



महेन्द्र सिंह राज 

कितनी शिद्दत से पाला था, हमने  खुद को संभाला था।

पर  तूफाँ के इक झोकें  ने , हमको  जमीं पे  डाला था।।


रुसवाई  कर  नहीं  सकता ,न अपनी आदत में शामिल।

क्या पता वो  ही  काले थे,या अपना दिल ही काला था।।


रोटी  का  इक  निवाला भी , अपने मुंह  में  जा न सका।

ना पता रोटी बेमानी की थी , या अपने मुंह में छाला था।।


प्रेम उडे़लकर प्याले में तूने ,जो दिया मुझे पीने के लिए।

अमृत समझ कर पी गया, क्या पता जहर या हाला था।।

 

क्या कहूं क्या ना कहूं अब,समझमें कुछ आता नहीं था।

इसलिये अपने मुंह पर मैंने,लगा लिया सब्रका ताला था।

 

कथनी करनीके अन्तर देखा,शब्द अलगहैं भाव अलग हैं।

मौन साधकर  मैंने  हम पर,आने वाली विपदा टाला था।।

 

सुरसरि समझ जिसमें उतरा था,मन की कलिख धोने को।

नहीं  समझा  पाया था वह ,सुरसरि नहीं  गंदा  नाला था।।


महेन्द्र सिंह राज 

मैढी़ चन्दौली उ. प्र.

Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
अभिनय की दुनिया का एक संघर्षशील अभिनेता की कहानी "
Image
भोजपुरी के दू गो बहुत जरुरी किताब भोजपुरी साहित्यांगन प 
Image
डॉ.राधा वाल्मीकि को मिले तीन साहित्यिक सम्मान
Image