नियति के खेल

 

श्वेता शर्मा

नियति को ये मंजूर था

तभी हम तुम मिले

फिर हमारे दिल मे 

मोहब्बत के फूल खिले


नियति की ये चाह थी 

तुमसे ही मेरी राह थी

तुम पर जीवन हारी थी

छोटी सी प्रेम की क्यारी थी


नियति ने फिर खेली चाल

छीना उसने प्रेम का ढाल

जुदा किया दोंनो का साथ

इसमें भी नियति का हाथ


नियति के है खेल निराले

इसके आगे दुनिया हारे

छूट गए अब साथ हमारे

छूट गए अब साथ हमारे


श्वेता शर्मा

रायपुर छत्तीसगढ़

स्वरचित

Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
सफेद दूब-
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
डॉ.राधा वाल्मीकि को मिले तीन साहित्यिक सम्मान
Image