नारी


माया शर्मा

दो-दो कुल का मान,बढ़ाती है नारी।

संस्कार का पाठ,पढ़ाती है नारी।।1।।


सम्बन्धों की डोर,सहज पकड़े चलती,

दिखे कहीं भी गाँठ,छुड़ाती है नारी।।2।।


सुख-दुख में वह साथ,निभाती आजीवन,

दुर्गम मग आसान,बनाती है नारी।।3।।


रहे कुशल परिवार,यत्न उसका होता,

जो भी बने उपाय,कराती है नारी।।4।।


वह तो कुसुम सदृश,सदा महका करती ,

मौसम सदाबहार,बनाती है नारी।।5।।


सब कुछ है आसान,नहीं दुष्कर समझे,

श्रम से कर उत्थान,दिखाती है नारी।।6।।


त्यागमयी वह मू्र्ति,लुटाती शुचि ममता,

सदा गुणों की खान,कहाती है नारी।।7।।


**माया शर्मा

पंचदेवरी,गोपालगंज(बिहार)**

Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
सफेद दूब-
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
गाई के गोवरे महादेव अंगना।लिपाई गजमोती आहो महादेव चौंका पुराई .....
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image