बच्चों का खेल

 


हसते हसते खेल रहे थे

कोयल जैसे बोल रहे थे

मेंढक जैसे कूद रहे थे

हसते हसते खेल रहे थे।

देख दशा लालू यादव जी हर्षित मन फूल रहे थे।

बच्चों ने आवाज उठाया

मेंढक ने झट पट अकुलाया

कुत्तों ने भौं -भौं कर बैठे

बच्चों ने तब रेस बढ़ाया।

सुबह हुई सूरज अकुलाया

पंछी भी अब जोश में आया

जब बच्चे घर में घुस बैठे

गिरगिट अपना रंग दिखाया।

तितली भी जब जोश में आई

फूलों के रस है मन भाई

तितली को अब दूंगा मार

तितली यह जब सुनीं कान से

उड़ पहुंची अपने बागान।

बन्दर अपने जोश में आया

बच्चों ने शीशा दिखलाया

झट बंदर ने दांत दिखाया

बच्चों ने मिल जीभ दिखाया

बन्दर भी अब है अकुलाया।

Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
आपका जन्म किस गण में हुआ है और आपके पास कौनसी शक्तियां मौजूद हैं
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
गाई के गोवरे महादेव अंगना।लिपाई गजमोती आहो महादेव चौंका पुराई .....
Image
साहित्यिक परिचय : नीलम राकेश
Image