ग़ज़ल

 'ऐनुल' बरौलवी

पत्थर नहीं हुआ अभी , मुझ में है ज़िन्दगी

रोता है दिल बहुत मेरा , आँखों में है नदी


एक बेवफ़ा ने ज़ख़्म कुछ , ऐसा दिया मुझे

तन्हाइयाँ हैं साथ में , ग़ाइब हुई हँसी


उल्फ़त में लुट गया है , मेरा दिल करें तो क्या

ये ज़ीस्त अब भटक रही कैसी है तीरगी


लश्कर ग़मों का आज है , सर पर मेरे बहुत

मैं ढूँढता इधर - उधर , मिलती नहीं खुशी


बाज़ार सज रहा है , हसीनों का देखिये

दिखती नहीं कहीं पे है , दुनिया में सादगी


इंसानियत से बढ़ के , न मज़हब कोई यहाँ

ऐसा न काम कीजिए , हो आदमी दुखी


कहते ग़ज़ल बहुत हैं ,सुख़नवर बहुत हैं आप

महफ़िल में पेश कीजिए , अपनी तो शाइरी


'ऐनुल' कभी झुकाइए सजदे में सर ज़रा

जन्नत मिलेगा आपको करने से बंदगी


 'ऐनुल' बरौलवी

गोपालगंज (बिहार)

Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
सफेद दूब-
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
मतभेद
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image