नि:शब्द


शून्य सी मैं ताकती

नि:शब्द, नि:स्वर, नि:स्वार्थ

  बेलाज़, बेहिचक

अनकहे शब्दों को बयान करती

   बेझिझक सी मैं

मदमस्त यादों में हिचकोले खाती

कभी बाहर आती, कभी गोता लगा

      मैं डूब जाती हूँ

   विछोह का मीठा दर्द,

  अरमानों की तेज रफ्तार

  श्‍वास श्‍वास में उमंग भरी

प्यासे प्यासे दिन,चांदनी भरी रातें

   कहाँ से आया काला साया

काली परछाई, अरमानों पर छाई

     नि:शब्द खड़ी

  तार तार होती यादों को

    शून्य सी मैं ताकती।

दीपाली सोढ़ी

गुवाहाटी असम

Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
अभिनय की दुनिया का एक संघर्षशील अभिनेता की कहानी "
Image
भोजपुरी के दू गो बहुत जरुरी किताब भोजपुरी साहित्यांगन प 
Image
डॉ.राधा वाल्मीकि को मिले तीन साहित्यिक सम्मान
Image