यादों का मौसम

 

नीलम द्विवेदी

तुम्हारे संग गुजरे जो,

सुनहरे पल याद आएँ,

चलो फिर से उसी पल को,

हम दुनिया से चुरा लाएँ।


कहाँ हम खोजते फिरते,

खुशी के पल न मिल पाएँ,

जरा तू मुस्कुरा के देख,

गुल वीराने में खिल जाएँ।


गुजरे पल तेरी यादों के,

हैं अनमोल मोती से,

कभी बिखरे न ये मोती,

भले साँसें उखड़ जाएँ।

             

 मेरे दिल का हिस्सा हों,       

 तेरी यादों का हर किस्सा,

कभी गमगीन मौसम हो,

यादें फिर से हँसा जाएँ।


सुनहरी धूप बन जाना,

गुलाबी शाम बन आना,

तेरी यादों का मौसम है,

मेरे गम भी महक जाएँ।।


नीलम द्विवेदी

रायपुर, छत्तीसगढ़

Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं यमुनानगर हरियाणा से कवियत्री सीमा कौशल
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं लखीमपुर से कवि गोविंद कुमार गुप्ता
Image
गीता सार
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image