माँ

 

ललिता पाण्डेय 

मेरी जुबां का पहला स्वर है माँ

मेरी लिखावट का पहला अक्षर है माँ

लड़खड़ाते कदमों की गिरने की आवाज है माँ

विश्वास की अनुभूति है माँ

पहली रसोई में जले पराठे की मुस्कान है माँ

स्वयं को परखने का दर्पण है माँ

हमारी हर समस्या का समाधान है माँ

मंत्रो में ओउम है माँ

हमारी गलतियों का निराकरण करने वाली

गंगा सी पावन है माँ

हर घर की छटपटाती नजरों की

आक्सीजन है माँ।

ललिता पाण्डेय 

दिल्ली

Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं लखीमपुर से कवि गोविंद कुमार गुप्ता
Image
सफेद दूब-
Image
शिव स्तुति
Image