बड़ा अच्छा लगता है,

 

गोविन्द कुमार गुप्ता

वो बारिश वाली राते,

वो मीठी मीठी बातें,

वो दौड़के छत पर जाना

वारिश में खूब नहाना,


बड़ा अच्छा लगता है,2,।।


बरसात झमाझम होना,

वो ख़्वावो में है खोना,

पानी जब बहने लगता,

कागज की नाव चलाना,


बड़ा अच्छा लगता है,2।।


वो ठंडी ठंडी लगती,

वो चिपक के देखो रहती

कमरे में भी है तनकर ,

वह लिपट लिपट कर सोती,

चादर कहते है उसको,

उसकी ही याद है आना,


बड़ा अच्छा लगता है, 2।।


गोविन्द कुमार गुप्ता,

मोहम्मदी लखीमपुर खीरी उत्तर प्रदेश

Popular posts
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं यमुनानगर हरियाणा से कवियत्री सीमा कौशल
Image
पापा की यादें
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं लखीमपुर से कवि गोविंद कुमार गुप्ता
Image
सफेद दूब-
Image