कैसे कहूँ क्या हो तुम

राजेश कुमार सिन्हा 

स्नेह का अमृत पान कराते हो तुम 

मेरी एक खुशी के लिए 

अपना सर्वस्व लुटाते हो तुम 

न दिन की फिक्र

न चिन्ता रात की 

कितने ऐसे पल काट चुके तुम 

मेरी पलकों से जब छलकी बूंदें 

उस पल ही आह भरी तुमने 

कैसे कहूँ क्या हो तुम 

मेरे लिए 

उँगली पकड़ के चलना सिखाया 

हर पल मेरे साथ खड़े हो 

इसका भी एहसास कराया 

अब तक जो कुछ तुमसे पाया 

कैसे लिखूँ मैं शब्द नहीं हैं

कैसे कहूँ क्या हो तुम 

मेरे लिए

इस जीवन को कैसे जीना होगा 

आगे कैसे बढ़ना होगा 

आयेंगी हजार मुश्किलें 

पग पग पर कांटे होंगे 

कैसे कैसे लोग मिलेंगे 

सब कुछ सहज नहीं होगा 

ऐसे में आशीष तुम्हारा 

मेरे पथ का सम्बल होगा 

कैसे कहूँ क्या हो तुम 

मेरे लिए

राजेश कुमार सिन्हा 

मुम्बई

Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं लखीमपुर से कवि गोविंद कुमार गुप्ता
Image
सफेद दूब-
Image