निशा (घनाक्षरी)


निशा काली जब आती ,हसीं सपने दिखाती।

गम  को  जब   बुलाती, जरा  न नींद  आती।।

सजनी  सँवरती   है,  बिन   बात  लड़ती  है।।

रोज वो  झगड़ती   है , प्रीतम   को  न  भाती।।


निशा है  बड़ी दुलारी,चाँद को भी लगे प्यारी।

चाँदनी   से  खूब   यारी, ,झट   चमक जाती।।

बदली   चमकती   है,  भू    पर   बरसती  है।

बिजली  गरजती  है,  आफत  में  जां आती।।

***********************************

सुखविंद्र सिंह मनसीरत 

खेड़ी राओ वाली (कैथल)

Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
अभिनय की दुनिया का एक संघर्षशील अभिनेता की कहानी "
Image
भोजपुरी के दू गो बहुत जरुरी किताब भोजपुरी साहित्यांगन प 
Image
डॉ.राधा वाल्मीकि को मिले तीन साहित्यिक सम्मान
Image