मांझी तेरा प्यार




भरी दोपहरी में,

जब वो नंगे पांव,

पनघट को जाती थी,

तब मेरे मन में,

इक चुभन सी होती थी,

कोसों दूर जब वो चलती थी,

मेरी धड़कने हजारों हथोड़े की,

मार सीने में करती थी,

ऐसा था मांझी तेरा प्यार।

ऊंचे चट्टानों के आगे,

लगता था बौना मैं,

हौसला गगनचुम्बी खुद का,

देख बहुत इतराता मैं, 

ऐसा था मांझी तेरा प्यार,

चट्टानों को चीर कर,

राह आसान करने को ठानी,

न चुभे कांटे तेरे पांव में, 

 ऐ सोचकर अपना दिल रख दिया,

तेरे कदमों पर रानी,

ऐसा था मांझी तेरा प्यार।

न जाने कितनी आंधियाँ चली,

मौसम ने भी रंग बदले होंगे,

चट्टानों के गर्भ ने भी,

न जाने कितने विष उगले होंगे,

ऐसा प्यार था मांझी तेरा,

न पैसा न संगमरमर,

न मजदूर न मददगार,

ऐसा प्यार था मांझी तेरा,

ताजमहल प्रेम का प्रतीक है,

तो मांझी प्रेम का प्रतिबिंब,

ऐसा प्यार था मांझी तेरा।


लता नायर

,वरिष्ठ शिक्षिका व कवयित्री

,कुवंरपुर,लखनपुर, 

सरगुजा-छतिसगढ

Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
अभिनय की दुनिया का एक संघर्षशील अभिनेता की कहानी "
Image
भोजपुरी के दू गो बहुत जरुरी किताब भोजपुरी साहित्यांगन प 
Image
डॉ.राधा वाल्मीकि को मिले तीन साहित्यिक सम्मान
Image