गाँधी बापू


भूमंडल में गूंज रही है ,

ऋषिवर बापू की गाथा।

 था वह मनुज हिमालय सा,

 नहीं झुका जिसका माथा।

 भय का बिलकुल नाम नहीं था,

 सत्याग्रह आंदोलन में ।

सारी जनता मुग्ध हुई थी,

 महामंत्र के मोहन में ।

भीषण लू चलती हो चाहे,

बरसे  बर्षा का पानी।

 निर्भय संत बढ़ा जाता था ,

पैरों में गति तूफानी ।

पाप गुलामी से जब धरती ,

 त्राहि-त्राहि थी चीख पड़ी ।

मोहन ने तब गांधी बन कर,

 भारत माता मुक्त भारत करी।

 सत्य अहिंसा व्रत को ले तब,

 चरख चक्र ले हाथ में ।

मिटा दिया दासत्व कलुषतम,

 अंकित भारत माथ  में ।


सुषमा दीक्षित शुक्ला

Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
अभिनय की दुनिया का एक संघर्षशील अभिनेता की कहानी "
Image
भोजपुरी के दू गो बहुत जरुरी किताब भोजपुरी साहित्यांगन प 
Image
डॉ.राधा वाल्मीकि को मिले तीन साहित्यिक सम्मान
Image