मगर क्यों हमारा बहलता नहीं दिल

 



सजी आज फिर से सितारों की' महफिल |


मगर क्यों हमारा बहलता नहीं दिल |


मुबारक तुम्हे चाँदनी ये थिरकती -


हमारे सभी ख्वाब हैं यार धूमिल || ०१


 


सुरक्षा दे नहीं सकते, तो' पहरेदार कैसे हो |


भगोड़े हो गए घोषित, कि जिम्मेदार कैसे हो |


हुए दावे हवा अब तो, भरोसा कौन है करता -


सरक कर चल रहे खुद तो, भला सरकार कैसे हो || ०२


 


भरा तेजाब सीने में , उगलते भी नहीं बनता |


तुम्हारे राज में राजन ! , दुखों को पी रही जनता |


भले किस्से कहानी में , तुम्हारे त्याग के चर्चे -


मगर ये भी हकीकत है , तुम्हारी कौन अब सुनता ||०३


 


नवनीत चौधरी ' विदेह '


किच्छा, ऊधम सिंह नगर


उत्तराखंड, 263148


दूरभाष- 9410477588


Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
सफेद दूब-
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
मतभेद
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image