हनुमान


पवन पूत हनुमान की, पूँछ लगी जब आग,        


लंका सारी जल उठी, रावण बड़ा अभाग।


 


राम हृदय में है बसी, मोहक वानर रूप, 


अंदर शक्ति अपार है, शिव के एक स्वरूप। 


 


कुमति निवारण होत है,भजि हनुमत का नाम, 


हनु चालीसा जो पढ़े, भय का है क्या काम। 


 


अजर अमर हनुमान हैं,ऋष्यमूक है धाम, 


दरशन उनको देत हैं, जिन मुख हैं श्री राम। 


 


संजीवन बूटी लिये, द्रोण गिरि लेइ आय,


रामदूत हनुमान ने, लछमन लिए बचाय।        


 


 नीलम द्विवदी


रायपुर (छत्तीसगढ़)


Popular posts
सफेद दूब-
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
गीता सार
भिण्ड में रेत माफियाओं के सहारे चुनाव जीतने की उम्मीद ?
Image
सफलता क्या है ?
Image