ये पल भर का प्यार


कभी शुरूर में, कभी गुरूर पे सवार।


कभी तेज़ आंधी, तो कभी धीमी वयार।।


फिर वही चिक चिक, वही तकरार


छोड़ो न यार, ये पल भर का प्यार।।


पल भर का प्यार, जीवन भर सताता है।।


वक्त जो खोया, वो वापस न लौट पाता है।


नींद चैन सब खोता, भूल जाता आहार।


छोड़ो न यार, ये पल भर का प्यार।।


पर एक वक्त भी आता है, जब वहम दूर हो जाता है। 


नशे से बाहर आया आशिक,रोता व पछताता है।।


आंसूओं की बारिश से, जीवन में न आती बहार।


छोड़ो न यार, ये पल भर का प्यार।।


 


अमर पाण्डेय


बस्ती, उत्तर प्रदेश (भारत) 


Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
सफेद दूब-
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
मतभेद
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image