वो तेरी मेरी हिंदी है


संस्कृति के कोख से जन्मी,


 एक प्यारी सी बेटी है,


 हिंद का जिसने मान बढ़ाया ,


वो तेरी मेरी हिंदी है !


 


जो भाषाओं में अग्रिम है ,


जो गर्व की अनुभूति है ,


जो शान व्याकरण की है,


 वह तेरी मेरी हिंदी है !


 


कविता के सुंदर मुखड़े की,


 जो प्यारी सी बिंदी है,


 गद्द के माथे का जो टीका ,


वह तेरी मेरी हिंदी है!


 


 है दुखद यह पक्ष भी ,


यह उपेक्षित हो रही ,


अंग्रेजी- चुंगल में फंसी जो,


 वो तेरी मेरी हिंदी है !


 


स्वरचित मौलिक रचना सुनीता जायसवाल फैजाबाद उत्तर प्रदेश


Popular posts
सफेद दूब-
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं लखीमपुर से कवि गोविंद कुमार गुप्ता
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
मैं मजदूर हूँ
Image