वो आंखें


उनकी आंखों में देखा तो 


हृदय का अमृतपान हुआ


रहने को तरसे क‌ईं नज़ारे जहां


मेरा वो अपना स्थान हुआ


एसी लगन उन आंखों की कि


चकोर बनकर जैसे चन्द्रमा निहारूं 


प्रकृति भी इतनी निराली


प्रेम जो मेरा इतना दयावान हुआ


अथा-सागर की गहराइयों का 


सहज ही अनुभव कराती


उनके लिए जीना उनमें डूबना


मेरा एक समान हुआ


उनमें रहती रात्रि की ठंडक


और रहता दिन का प्रकाश 


उन आंखों में बस कर मेरा


जीवन बिताना आसान हुआ


 


कवि स्वामी दास'


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
आपका जन्म किस गण में हुआ है और आपके पास कौनसी शक्तियां मौजूद हैं
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
गाई के गोवरे महादेव अंगना।लिपाई गजमोती आहो महादेव चौंका पुराई .....
Image
साहित्यिक परिचय : नीलम राकेश
Image