सुशान्त सिंह राजपूत को समर्पित


एक धक्का सा लगा था 


जब तुम गए थे


आज भी दिल रो रहा है


ऐसा क्यों हो रहा है


 


मैं ही नहीं,


मेरे जैसे लाखों हैं


जो तुम्हें रोज़ याद करते हैं


जो तुम्हारी,रोज़ बात करते हैं


 


सोचतें हैं कि काश


तेरह जून को तुमको कह पाते


कि तुम सर्वोत्तम हो


कि तुम किसी से न कम हो


 


चले गए तुम 


हम सबको उदास करके


चलो हमारी छोड़ो, 


कभी सोचा, कैसे रहेंगे 


तुम्हारे बिना सब लोग, घर के


 


कितना समय बीत गया


यह ख़ालीपन


यह अधूरापन, कम ही नहीं होता


तुम्हें इंसाफ मिले,


अब मन यही बोलता


 


~ रूना लखनवी


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
आपका जन्म किस गण में हुआ है और आपके पास कौनसी शक्तियां मौजूद हैं
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
साहित्यिक परिचय : नीलम राकेश
Image
गाई के गोवरे महादेव अंगना।लिपाई गजमोती आहो महादेव चौंका पुराई .....
Image