शब्दों की ताकत

"दोहा मुक्तक"



एक वृक्ष है बाग का, डाल डाल फलदार।


एक शब्द है ब्रम्ह का, पढ़ न सका संसार।


पूजा तो सबने किया, लिए हाथ में फूल-


किसी किसी को मिल गया, नीर नाव पतवार।।-1


 


पात पात से वृक्ष है, और बृक्ष से पात।


दिन रोशन करता डगर, और चाँद से रात।


शब्द समंदर से बड़ा, लेकर समुचित भाव-


कनक कटोरा में भरा, कनक सरीखी बात।।-2


 


वृक्ष डाल पर मगन है, इक दादुर इक मोर।


दोनों के चित राग रस, कनक ढूढ़ता चोर।


मिल जाये कवि को अगर, कनक सरीखा शब्द-


खिल जाए कवि धर्मिता, भाव भंगिमा शोर।।-3


 


महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी 


Popular posts
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
हँस कर विदा मुझे करना
Image
सफेद दूब-
Image
नारी शक्ति का हुआ सम्मान....भाजपा जिला अध्यक्ष
Image