साजन की राह

 


साजन की मैं राह देखती ,


कर फूलों का श्रृंगार।


सज - संवर कर मैं बैंठी हूॅ़ं,


बालों में लगा के गजरे का हार।।


 


 कुछ तस्वीर लगी दीवारों पर,


भगवान से माॅ़ंगु तुझे मैं आज।


कुछ सपनें लेकर आँखो में,


रस्ता देख रही बार - बार।।


 


 


  तुम्हें पसंद हरे रंग की साड़ी,


हरी चूड़ियां लाल श्रृंगार...


माथे में हैं लाल कुमकुम ,


और चेहरे पे मंद मुस्कान।।


 


कुछ सुध रही ना मुझको साजन,


कब बिल्ली आयी पास।


मैं तो देखूॅ़ं राह तुम्हारा,


तुम कब आओगे पास।।


 


बैठ तुम्हारी राह देखती,


मैं बना रहीं हूॅ़ं हार। 


अब आॅ़ंखो के काजल भी मिट गए,


पर नैनो को है आश ।।


       साजन मेरे आयेंगे ये मन को हैं विश्वास...


 


स्वरचित - सरिता लहरे "माही"


पत्थलगांव जशपुर (छत्तीसगढ)


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
आपका जन्म किस गण में हुआ है और आपके पास कौनसी शक्तियां मौजूद हैं
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
साहित्यिक परिचय : नीलम राकेश
Image
गाई के गोवरे महादेव अंगना।लिपाई गजमोती आहो महादेव चौंका पुराई .....
Image