मंजिल

 



मंज़िल ना सही सफ़र तो मिला है,


ज़िन्दगी जीने का एक बहाना मिला है,


लगा हूँ पूरी करने को ज़िद अपनी,


सपनो के पीछे दौड़ने का सलीका मिला है,


खोया हुआ था मैं ना जाने कहाँ पर,


खुद ही खुद को ढूँढने का रास्ता मिला है,


लड़ते-लड़ते खुद से,


दुनिया से लड़ने का हौंसला मिला है,


मंज़िल ना सही सफर तो मिला है।


 


करता रहा कोशिशें खुद को पाने की ,


कभी ना छोड़ी उम्मीद मंज़िल को पाने की।


हारा था मैं भी खुद से पर,


हौंसला ना टूटने दिया,


हर कोई रूठा मुझसे ,


पर खुद को खुद से ना रूठने दिया।


 


©परीक्षित जायसवाल 


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
आपका जन्म किस गण में हुआ है और आपके पास कौनसी शक्तियां मौजूद हैं
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
गाई के गोवरे महादेव अंगना।लिपाई गजमोती आहो महादेव चौंका पुराई .....
Image
साहित्यिक परिचय : नीलम राकेश
Image