कुसूर हमारा नहीं


ये शौक, ये ठाट फितरत है हमारी, जी मचल जाए, तो कुसूर हमारा नहीं! 


ये रोब, ये गुरूर आदत है हमारी, 


मन बदल जाए, तो कुसूर हमारा नहीं! 


ये शाही तलवार और राजपूताना अंदाज़ यूँ ही नहीं लेकर चलते हैं;


ये जंग, ये जुनून ताकत है हमारी, 


दिल दहल जाए तो कुसूर हमारा नहीं.... 


 


माही सिंह


Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
सफेद दूब-
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
मतभेद
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image