हिंदी मेरे रोम रोम में


हिंदी मेरे रोम रोम में ,


हिंदी में मैं समाई हूँ ,


हिंदी की मैं पूजा करती ,


हिंदुस्तान की जाई हूँ


सबसे सुन्दर भाषा हिंदी ,


ज्यो दुल्हन के माथे बिंदी ,


सूर जायसी, तुलसी कवियों की ,


सरित -लेखनी से बही हिंदी ,


हिंदी से पहचान हमारी ,


बढ़ती इससे शान हमारी 


निज भाषा पर गर्व जो करते ,


छू लेते आसमां न डरते ,


शत -शत प्रणाम करते हम हिंदी को 


स्वाभिमान हमारी हिंदी !


शोभा खरे


Popular posts
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
हँस कर विदा मुझे करना
Image
सफेद दूब-
Image
नारी शक्ति का हुआ सम्मान....भाजपा जिला अध्यक्ष
Image