हिन्दी है सम्मान देश का

सावन के जैसी बरसती रहेगी।


फूलो के जैसी महकती रहेगी।


है शान हिन्दी मेरे वतन की,


निखरती रही है सँवरती रहेगी।


---------------------------------


हिन्दी है अभिमान देश का।


हिन्दी है सम्मान देश का।


काम करे सब हिन्दी में अब,


और बढ़ाये मान देश का।


 


बलराम निगम


Popular posts
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
सफेद दूब-
Image
अंजु दास गीतांजलि की ---5 ग़ज़लें
Image
हार्दिक शुभकामनाएं
Image