मन-मर्कट

 



चेहरा में दोहरा चेहरा


बिगड़ल बहल बाटे।


गजबे सजल बाटे।


खेलाड़ी मजल बाटे।।


 


रहेला जेकरे संगे,


उ अंग अंग सटल।


बिना टनले सोटले,


कहि से ना हटल।।


एकरा में ना ह अर्पण,


एकरा में ना समर्पण।


ई सबके चाहे-छोड़े,


तिलांजलि दे तर्पण।।


ना चित्त चरित एकर,


दर्पण पटल बाटे।0।।


 


भेड़िया के चाल चले,


गिरगिट सा रंग बदले,


बदला बदल के लेला,


मौसम के तरे बदले।।


ई समाज लाज लुटसि


कबो ना कुछ देहले।


रहसि भरत बेचैनी,


तपन तूफ़ान लेहलें,


ओहिके मिलावे माटी,


जेहि में सटल बाटे।0।।


 


मिलत में भोर हवे।


भीतर के चोर हवे।।


औकात ह ना बात के।


हेहर,लतख़ोर हवे।।


मनबिगड़ा ह बानर।


करें दिमाग आन्हर।।


केतना बताई केतर।


हवें बेहाया थेथर।।


ऊ खिलल ना बाँचलि


जेकरा जचल बाटे।0।।


 


जहें रहे बसाइल,


घर फोरफार देला।


शत्रु समाज के ह,


खून बुन गार लेला।।


ह आत्मा के दुश्मन,


परमात्मा के गाँरी,


न माता नाता माने,


खाली करे बरियारी।


दृष्टि ना कवनों दाया।


बक़बादी मन बेहाया।।


अमृत के आस देके


भरत गरल बाटे।0।।


 


बिगड़ा बेकार करें,


आत्मा लाचार करें।


तन जीवन जरावे,


ई सब बीमार करें।।


निर्णय ना नीक होखे।


बाउर में जीव झोके।।


जेहि जिए मनमाना,


बरबाद से के रोके।।


जेहि गुलाम मन के,


केहि बचल बाटे।0।।


 


ह साधु जल पवितर,


जकल जमल त महकल।


जेहि लालच से भरल,


मन मोह माया बहकल।।


मन तन करें मइल


सब नाश करें कइल।।


ई ना केहु के भइल,


जेहि सटल से गइल,


उहे बचल दिवाकर,


जेहि हटल बाटे।0।।


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
आपका जन्म किस गण में हुआ है और आपके पास कौनसी शक्तियां मौजूद हैं
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
साहित्यिक परिचय : नीलम राकेश
Image
गाई के गोवरे महादेव अंगना।लिपाई गजमोती आहो महादेव चौंका पुराई .....
Image