"ग्रहण,,,,,,,

 



"मेरा जीवन,क्या यह जीवन


कैसी यह बेचैनी है


सांझ समझ ना सुबह समझ


कैसी यह सरगोशी है


"ग्रहण" का पहरा है जीवनब


ना कोई उन्माद है


ना कोई बासन्ती हवा है


ना कोई सम्वाद है


एक प्रहर की अंतिम बेला


यह कैसा संजोग है


इस जीवन की" ग्रहण"-कथा


ना अब कोई मेल है


जीवन है उन्मुक्त पवन -सा


"ग्रहण" न इसपे लगने देना


मिली जो साँसे जीवन की


खुश हो कर उसको जी लेना"""""


   *********


यह मेरी मौलिक रचना है,,,,,


©डॉ मधुबाला सिन्हा


   वाराणसी 


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
आपका जन्म किस गण में हुआ है और आपके पास कौनसी शक्तियां मौजूद हैं
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
गाई के गोवरे महादेव अंगना।लिपाई गजमोती आहो महादेव चौंका पुराई .....
Image
साहित्यिक परिचय : नीलम राकेश
Image