गीत (हिंदी दिवस)


"हिंदी है मेरी धड़कन मैं हिंदी जैसी दिखती हूँ।"


 


हिंदी ही लिखती है मुझको औ मैं हिंदी लिखती हूँ!


हिंदी है मेरी धड़कन मैं हिंदी जैसी दिखती हूँ।।


 


कलम भी कर रही मेरी इसी की ही इबादत है।


नही महफूज है हिंदी कि देती ये शहादत है।


व्यथा अपनी सुनाती है सलीके से बताती है।


हृदय में पीर उठता है नयन से ये जताती है।।


 


अंग्रेजी की है कीमत मैं रद्दी जैसे बिकती हूँ।


हिंदी है मेरी धड़कन मैं हिंदी जैसी दिखती हूँ।


 


असर मेरा कहाँ दिखता जबां पे अपनो के आखिर।


चहेती हूँ कहाँ उनकी बनी हूँ जिनके ही खातिर।।


निगाहें भी झुका लेते अगर हो पास अंग्रेजी।


नही करते तनिक इज्जत करे परिहास अंग्रेजी।।


 


दफ़्तर में सरकारी मैं फाईलों में ही सड़ती हूँ।


हिंदी है मेरी धड़कन मैं हिंदी जैसी दिखती हूँ।।


 


वतन पर नाज़ था मुझको चहेती मैं वतन की थी।


गुलामी से मिली राहत कभी सबने जतन की थी।।


नही भाषा मुझे समझें नही इज्जत मिला मुझको।


बड़े ही शर्म से बोलें नज़र को सब झुका मुझको।।


 


चंदा सी मैं शीतल हूँ सूरज के जैसी जलती हूँ।


हिंदी है मेरी धड़कन मैं हिंदी जैसी दिखती हूँ।।


 


हिंदी ही लिखती है मुझको औ मैं हिंदी लिखती हूँ।


हिंदी है मेरी धड़कन मैं हिंदी जैसी दिखती हूँ।।


 


प्रियंका दुबे 'प्रबोधिनी'


गोरखपुर, उत्तर प्रदेश।


Popular posts
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
हँस कर विदा मुझे करना
Image
अंजु दास गीतांजलि की ---5 ग़ज़लें
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं यमुनानगर हरियाणा से कवियत्री सीमा कौशल
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image