ग़ज़ल


हिस्सेे में मेरे लेकिन बस इंतजार आया


कैसे कटेगा ये दिन दिल तो पुकार आया


 


छोड़ो पुरानी बातें अब तो गले लगा लो


आके करीब मुझको कितना करार आया


 


बातों में तेरे जादू है कितना तू ना जाने


आंखें जो बंद कर लूं तेरा दिदार आया


 


मैंने तो आज ये दिल मुश्किल से है संभाला


भींगे हुए मौसम में फिर से बहार आया


 


तेरी ही धड़कनों ने कह दी है ये कहानी


तन्हा ना जी सकेंगे मुझे ही प्यार आया


 


किरण झा


✍🏼✍🏼 स्वरचित


Popular posts
सफेद दूब-
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
गीता सार
सफलता क्या है ?
Image
श्री लल्लन जी ब्रह्मचारी इंटर कॉलेज भरतपुर अंबेडकरनगर का रिजल्ट रहा शत प्रतिशत
Image