दो_कुंडलिया


हिंदी ने हमको दिया, भावों का आकाश |


इसमें रचनाधर्मिता, कब लेती अवकाश |


कब लेती अवकाश, सृजन होता अति पावन |


शब्द-शब्द शृंगार, पाठकों का खिलता मन |


कह विदेह कविराय, भारती माँ की बिंदी |


करते सभी दुलार, सुभाषा है ये हिंदी || ०१


 


हिंदी को अपनाइये, देकर प्रेम अगाध |


पावन इसकी वर्तनी, करिए सृजन अबाध |


करिए सृजन अबाध, निखरती इसमें कविता |


सरस व्याकरण ज्ञान, सरस भावों की सरिता |


कह विदेह कविराय, यही गंगा कालिंदी |


करो सभी अनुराग, सहज भाषा है हिंदी ||०२


 


नवनीत चौधरी विदेह


किच्छा ,ऊधम सिंह नगर


उत्तराखंड


9410477588


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
आपका जन्म किस गण में हुआ है और आपके पास कौनसी शक्तियां मौजूद हैं
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
गाई के गोवरे महादेव अंगना।लिपाई गजमोती आहो महादेव चौंका पुराई .....
Image
साहित्यिक परिचय : नीलम राकेश
Image