एक कविता मा के नाम.......

 



मा कैसे करू तेरा शुक्रिया कुछ समझ ना आए । 


फिर सोचा... क्यों ना एक कविता के ज़रिए तेरा 


 शुक्रिया अदा किया जाए। 


फिर उठाई मैने अपनी कलम , 


और रच दी 'एक कविता मा के नाम' 


कलम के संग । 


मा तेरा शुक्रिया मुझे इस दुनिया में लाने का ।


मा तेरा शुक्रिया मुझे अपनी गोद में सोलाने का।


मा तेरा शुक्रिया मुझे धूप वर्षा से बचाने का।


मा तेरा शुक्रिया मुझे अपने आंचल के पीछे छुपाने का ।


मा तेरा शुक्रिया मुझे इस दुनिया में लाने का । 


मा तेरा शुक्रिया जो तू मेरे लिए इस जग से लड़ी । 


मा तेरा शुक्रिया जो तू मेरे दुःख-सुख में मेरे संग खड़ी। 


मा तेरा शुक्रिया मुझे पढ़ाने का ,लिखाने का ,


 कुछ करके दिखाने के काबिल बनाने का ।


मा तेरा शुक्रिया मुझे इस दुनिया में लाने का ।


मा एक तू ही है जो मेरे दुख़ में सहारा है।


मा तेरे बिन यह जग सुना सारा है।


मा तेरे संग ही जिन्दगी - जिन्दगी है,


तेरे बिन यह जिन्दगी एक बंदगी है।


मा तेरा शुक्रिया मेरी ज़िन्दगी रोशनाने का,


मा तेरा शुक्रिया मुझे इस दुनिया में लाने का।


मा तेरा शुक्रिया जो तूने दिया मुझे एक


मौका कुछ करके दिखाने का।


मा तेरा शुक्रिया जो तूने दिया मौका 


मुझे दुनिया में नाम कमाने का ।


मा तेरा शुक्रिया मेरा वजूद बनाने का,


मा तेरा शुक्रिया मुझे इस दुनिया में लाने का।


रमनदीप कौर


Popular posts
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
हँस कर विदा मुझे करना
Image
सफेद दूब-
Image
नारी शक्ति का हुआ सम्मान....भाजपा जिला अध्यक्ष
Image