तख़्त से नीचे गिरेगा शाहज़ादा झूठ का


देखा पहने हर नज़र को इक लबादा झूठ का।


झूठ सच को कर रहा था इक पियादा झूठ का।।


 


आँखों में बुन खूबसूरत जाल जो उलझाता है।


लग रहा दिलक़श नज़ारा हद से ज़्यादा झूठ का।।


 


हैं पहन रक्खे मुखौटे राम के कहीं कृष्ण के।


है ज़बां पे सादगी ना काम सादा झूठ का।।


 


इक ज़रा खिड़की खुली चेहरा दिखा है सामने।


लूटने को हर दफ़ा जो था आ'मादा झूठ का।।


 


इक कहानी झूठ की लिक्खी गई थी इस तरह ।


ताई'द-ए-सच का बे'मतलब था तकादा झूठ का।।


 


देर से ही हो सही पर देखना तुम एक दिन।


झूठ बन रह जाएगा हर इक इरादा झूठ का।।


 


तेग-ए-सच्चाई का इक दिन वार होगा ही 'सु'मन'।


तख़्त से नीचे गिरेगा शाहज़ादा झूठ का।।


 


 


**सुमन मिश्रा**


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
गाई के गोवरे महादेव अंगना।लिपाई गजमोती आहो महादेव चौंका पुराई .....
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
पीहू को जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनाएं
Image