प्यार भरी मुलाकात


आज प्रेयसी से प्यार भरी मुलाकात हुई


आँखों से रिमझिम आँसुओं की बरसात हुई


 


न खता उनकी थी,न ही था कुछ मेरा कसूर 


जाने क्यों वक्त पर हमारी न शुरुआत हुई


 


तड़फता है दिल बहुत जब कोई बिछड़ता है


जुदाई अंजाम मोहब्बत, फिर वो बात हुई


 


पथिक चलता अकेला जिन्दगी की राहों पर


हमसफर मिल जाए ,राहे में वारदात हुई


 


तारे टिमटिमाते नभ में जुगनुओं की तरह


चमक पर ना जाने कब,क्यों, कैसे घात हुई


 


मनसीरत महके चमन रंग बिरंगे फूलों से


फिर भी जीवन में क्यो नहीं नव प्रभात हुई


*********************************


 सुखविन्द्र सिंह मनसीरत


000खेड़ी राओ वाली (कैथल)


Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं लखीमपुर से कवि गोविंद कुमार गुप्ता
Image
सफेद दूब-
Image
शिव स्तुति
Image